Sunday, 2 February 2014

नए युग की मधुशाला


बैर करांते मंदिर मस्जिद ! मेल कराती मधुशाला !!
दिल तोड़ती प्रियम्वदा ! राह दिखाती बारबाला !!

आदम के बच्चो ने क्या हाल किया मधुशाला !!
हाथ मे चखना और हाथो मे मदिरा का प्याला !!





हम तो अभी यही कहेंगे दिल तोड़ती प्रियम्वदा ! राह दिखाती बारबाला !!
कन्याओ ने भी अब रख्खा कदम है मधुशाला !!

कलयूग रंग दिखायेगा तड़प उठेगी मधुशाला !!
बच्चो ने अब राह है पकड़ी मधुशाला !!

डिस्प्रिन से उतरेगा अब हंगोवर मधुशाला !!
हम तो अभी यही कहेंगे दिल तोड़ती प्रियम्वदा ! राह दिखाती बारबाला !!

साथी भी अब साथ चला है मधुशाला !!
गटर मे गिर के उतारेगी अब नशे की हाला !!

सरकार बढाती टैक्स, रुकी नहीं मधुशाला !!
बूंद बूंद पिते है पैमाने की और भीढ़ बढ़ी है मधुशाल !!

बैर करांते मंदिर मस्जिद ! मेल कराती मधुशाला !!
दिल तोड़ती प्रियम्वदा ! राह दिखाती बारबाला !!


No comments:

Post a Comment