Tuesday, 4 March 2014

Need More Tharoor


Shashi Tharoor is MP from Kerala state & our present Minister of State for Human Resource Development. He is among the few MPs, who daily give updates for their development works . He is doing his best to make development in all fields of Kerala & India. Shashi Tharoor is doing all possible work to provide Kerala an international platform.

A great writer from age of 6, Tharoor wrote many books. A great spoke person who is having in-depth knowledge of India and it's politics. Ex External Affair Minister did great work in foreign affairs. His books have mind blowing impact on People across world. His books gives insights of India & world. His books talk about traditional culture to economical reforms.

Rajdeep Sardesai told “In the age of marketing, there is perhaps no social category as attractive as the urban ‘youth’ brand. The MTV generation has spawned channels, products, a lifestyle designed to promote this ‘youth’ culture. And now, in the battle for power in the next general elections, it is this ubiquitous youth factor that is expected to play a bigger role than ever before.”

In 2014 general election number of voters between age of 18 and 23 will be 110 million of the 800 million eligible voters. Rajdeep farther told,This is, in a sense, the Virat Kohli generation, not even the Sachin Tendulkar one: their appetite for Twenty20 cricket is translated into their life goals: a generation which is aggressive, aspirational, consumerist and impatient for change. This is an India, especially in the metros, which has only used mobiles, never seen a black and white TV, is Internet savvy and never heard of the Soviet Union."

I enjoyed reading Rajdeep’s post “Making a connection”. He crafted all his points very well and I can see the most of this skills in Shashi Tharoor. I see Tharoor as visionary. Shashi Tharoor is very active in parliament session. We can see Shashi on news channels 
talking about the Good works done by Congress in last ten years. We all know that RTI,Food Security Bill & Lokpal is a effort of Congress for benefits of common man in India. Shashi is also raised his voice on sensor ship on social media.





We have seen him attending press conference, going to book release show, interacting with people. Tharoor was 1st Indian politician to cross million follower on twitter & tech savvy Tharoor has his FB page with all updates. I myself communicated many time with Tharoor. I mostly found him inspiring and Tharoor can motivate youth.


We need all representatives of India should be well educated. If Political Leaders are knowledgeable then they can do good work for people. If they are having good knowledge then rate of development will be faster. You can go to www.shashitharoor.in for more information about Shashi Tharoor.

We need more number of Tharoor for well- educated and developed India. We need more number of Tharoor for Super Power India.


Monday, 3 March 2014

Black Money


It is said that black money in India, accounts for 20 % of GDP. If this is true, then black money generated every year must be around Rs 400,000 crore or $80 billion. This is a huge amount, more than the entire budget of the government at the Centre. We have a government that spends about Rs 350,000 crore a year on various social & economical schemes.


On the other side, we have black money worth Rs 400,000 crore every year, which is just guesswork, and there are no accounts for it. This money goes into property, which is why real estate prices are so high. If the government could have all this money, or even a small fraction, there would be no need for revenue deficit or fiscal deficits, and no need for huge borrowings to make two ends meet.

How big is $100 billion? It is bigger than you think. It is worth Rs 500,000 crore, which makes it bigger than the central budget. It is more than twice our annual exports. It is equivalent to 30 times what Enron is supposed to have invested on its Dabhol project. It is more than what the US government is expected to pay those who have suffered from the September 11th smash. And, if you must know, it is a fifth of our annual GDP, which is itself a big figure.

Why our Indian government does not has any control on Black Money. Many of our powerful Netas have share in black money so they don’t want to regularize things for the accounting of Black Money. Our Netas declare their assets at the time of election and EC also put guidelines for the expenses and other details for the promotion but we all know that Black money is involved in every promotion of election with great extent.

Neta conduct rally at the time of election to get the people. They pay Rs 250-1000. Let me tell you in few lacs there won’t be hording on every corner of Road. In Election campaign you will get alcohol free for days when your Neta is on trail of election campaign. You’ll get free lunch & dinner. There is no Tds on payment and no revenue receipt for payment more than Rs500 in cash.

We all know the issue and problem but can not do anything and our Netas don’t want to do anything. Everyone Knows that A Rupee left from Delhi reach to the people as 15paisa but When A Rupee left from Delhi will reach as Rupee to people. Indian people send money to Swizz account through Havala. Swizz bank give that money to World Bank. We borrow loan from world bank & pay interest on that money. Which is nothing but our own money.

We know all the problems and reasons but don’t know when it’ll get solved as our Netas don’t want to solve and from just writing a article I can not solve it too.


Wednesday, 26 February 2014

मिग 29 की आत्मकथा



मैं मिग हू।  मैं एक लड़ाकू विमान हू।  मेरा जन्म अक्टूबर 1977  में रूस में हुआ।  संयुक्त राज्य अमेरीका से लड़ने के लिए मेरा जन्म हुआ था।  मैंने रूस के शीतकालीन यूद्ध में उसकी बहुत मदत कि और उन्हें कई मोर्चो पर जीत दिलाई।  मेरे कई भाई बहन इस यूद्ध के दौरान शहीद हो गए। मेरे  जन्म के बाद मैंने कई देशो का भ्रमण किया।  यूगोस्लाविया, सर्बिआ , जर्मनी , पोलैंड , संयुक्त राज्य अमेरिका , ईराक , सूडान कुछ ऐसे देश है जहाँ मैं उनके लोगो के बीच जाकर पला बढ़ा।  






80 के दशक में मैं भारत आया ।  भारत आने से पहेले मैंने कई देशो के युद्धों में भाग लिया। मेरे कई भाई युद्धो में शहीद हुए और मैं हमेशा देश कि रक्षा करते रहा।  भारत ने मुझे अपने वायु सेना में शामिल तो कर लिया परन्तु मुझे कभी किसी युद्ध में इस्तेमाल नहीं किया।  कारगिल युद्ध के समय मेरे कई भाईयो ने पाकिस्तानी घुसपैठियो को भगाने में भारतीय सेना कि मदत कि परन्तु मैं सिर्फ हाथ पे हाथ रखकर अपनी बरी का इंतज़ार करता रहा।  






मैंने कई बार 15 अगस्त और 26 जनवरी को लालकिले के ऊपर कला बाजिया करकर लोगो का मन बहलाया परन्तु मुझे इस कार्य में कभी ख़ुशी नहीं हुई।  मेरा काम देश कि रक्षा करना था, न कि मसखरा बनकर लोगो का मन बहलाना।  भारत ने मुझे इतने पैसे खर्च करकर ख़रीदा परन्तु उन्होंने मेरा सही उपयोग कभी नहीं किया। मैं अपनी भारत कि जिंदगी से खुश नहीं था।  मुझे यहाँ का जीवन रास नहीं आ रहा था,  परन्तु मेरे पास कोई पर्याय नहीं था।  जैसे तैसे मैं अपने दिन काट रहा था।  






एक दिन अचानक मुझे पता चला की एक हवाई अभ्यास के दौरान मेरे एक भाई कि दुर्घटना में मृत्यु हो गई।  उसके बाद एक एक करके मेरे कई भाई अभ्यास के दौरान वीरगति को प्राप्त हो गए।  ऊनमे से कई ऐसे थे जिन्होंने कभी किसी यूद्ध में भाग नहीं लिया।  2009 में रूस ने मिग 29 का उपयोग बंद कर दिया परन्तु भारत अभी भी कलाबाजियों के प्रदर्शन में मेरा उपयोग कर रहा था।  इन हवाई अभ्यासों और कलाबाजियों से मुझे अब डर लगने लगा था। 






एक दिन मैंने हवाई अभ्यास के लिए जामनगर के आकाश में उड़ान भरी।  मुझे कुछ अनिष्ठ होने कि आशंका लग रही थी मेरे पंख जैसे मुझे उड़ने के लिए मना कर रहे थे परन्तु मेरे बस में कुछ नहीं था।  मैं जैसे ही आसमान में पंहुचा मेरी साँसे भारी होने लगी।  मैंने तुरन्त अपने चालक को इस बात कि सूचना दे दी , परन्तु अब शायद देर हो चुकी थी।  मेरा चालक और मैं जमीन पर आ गिरे और इस दुर्घटना में हम दोनों कि मृत्यु हो गई।  दूसरे दिन कई अखबारो कि सुर्खियो में मेरा नाम छपा था।  






मुझे मरने का डर कभी नहीं था , क्योंकि मेरा काम ही कुच्छ ऐसा था कि मौत तो एक दिन आनी ही थी , परन्तु मैं यूद्ध में अपने देश कि रक्षा करते हुए मरना चाहता था। मैं चाहता था कि मुझे जब कभी वीरगति मिले, मेरे भाई मेरे आस पास ए देखने के लिए हो कि किस तरह मै बहादुरी से उनके साथ लड़ा और लड़ते लड़ते वीर गति को प्राप्त हुआ। आशा करता हू कि अगले जनम में मेरी ये हालत नहीं होगी।  





Tuesday, 25 February 2014

Feedback

























Monday, 24 February 2014

कोयले की चोरी


कमाल सुबह उठा और जैसे ही उसके हाथ मे अखबार आया वो
कोयले की चोरी का मामला पढ़कर हक्का - बक्का रह गया. कोयले हमारे भारत की
भू संपदा है उसका चोरी होना कोई मामूली बात नहीं थी. कमाल सोच सोच कर हैरान
था की कोयला चोरी कैसे हुआ.  कमाल नुक्कड़ पर चाय पीने आया तो लोगो से बात
करने लगा की किस तरह करोडो का कोयला चोरी हो गया. कमाल ने गाँव के लडको के
साथ कभी बार मालगाड़ी मे से कोयला चुराया पर कभी भी उसे बेचने के बाद हज़ार
रुपये से ज्यादा नहीं मिला क्योंकि उससे ज्यादा का कोयला चुराकर बेचना आसन
नहीं था.





कमाल कोयले की चोरी के बारे में सोच सोच कर परेशान हो रहा
था क्योंकि वो जानना चाहता था की कोयला किस तरह चुराकर ले जाया गया और किस
बन्दे ने करोडो हज़ार रुपये के कोयलों की चोरी की और किस बन्दे ने करोडो
रुपये के कोयले को हाथो हाथ खरीद लिया. कमाल जानता था की कोयला चुराना कोई
आसन काम नहीं है. कोयला चुराकर बाज़ार तक पहुचाना काफी कठिन था. कमाल फिर से
घर आया और अखबार उठाकर पढ़ने लगा. इस बार उसने हर एक बात ध्यान से पढ़ी तब
उसे मालूम पड़ा की कोयला सिर्फ सरकारी पन्नो पर चोरी हुआ है. असली कोयला
अभी भी वाही पड़ा है जमीन के नीचे, पर आज नहीं तो कल वो जमीन के नीचे से चोरी हो जायेगा.




कमाल
भी अब बड़ी कोयला चोरी के बारे मे सोचने लगा. वो भी अब सिर्फ पन्नो पर
कोयला चोरी कर के पैसा कमाना चाहता था. कमाल को लगा की पन्नो पर कोयला चोरी करना  आसन है पर उसे पता नहीं था की पन्नो पर कोयला चोरी करने के लिए उसे
पहेले राजीनीति मे आना पड़ेगा और कोयला चोरी के लिए कम से कम विधानशभा का
चुनाव जितना पड़ेगा जो अपने आप मे बहुत बड़ा काम है और कमाल जैसे बन्दों को
आपना पूरा जीवन लगाना पड़ेगा और शायद पूरा जीवन लगाने के बाद भी मौका न
मिले.




Interview with Rahul Gandhi - #FF


I hope you enjoyed my all past interviews with so many leaders of political parties. I visited Rahul Gandhi for his interview. I am very glad that he gave me interview to write on my blog.

Q1. What do you think about Aam Aadmi Party ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q2. What do you think about Failure of Salman Khan's movie Jai Ho ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q3. What do you think about scam in India ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q4. What do you think about SRK’s last movie ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q5.What do you think about Shikh Riots in delhi ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q6. What do you think about censorship on internet ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q7. What do you think about TRP of Gutthi's New Show ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q8.What do you think about next movie of KRK ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q9. What do you think about Narendra Modi ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

Q10. What do you think about future of football in India ?
Ans : We gave Right to Information Act, We gave food security bill, We gave Jan Lpkapal & we want to empower women in our country.

I hope you all enjoyed reading my interview with Mr Rahul Gandhi. Let me tell you that this is transcript of fake interview. There is no LENA DENA of living or non-living thing with above interview and any similarity is merely a coincidence.

Friday, 21 February 2014

कांग्रेस को है चमत्कार का इंतज़ार


कांग्रेस सरकार और घोटालो का दामन चोली का साथ हो गया है। कांग्रेस सरकार घोटालो से निजाद पाना चाहती है परन्तु घोटाले कांग्रेस सरकार का साथ नहीं छोड़ना चाहते है। प्याज से जिस तरह परत दर परत छिलके निकलते है उसी तरह पिछले कुच्छ सालो में कांग्रेस और उसके घटक दलो और नेताओ का नाम परत दर परत घोटालो से बाहर आया है। यदि हम कांग्रेस शासन कल में हुए अग्रणीय घोटालो का जिक्र करे तो 2G, CWG, आदर्श और कोयला घोटाला प्रमुख है।

कांग्रेस शासन काल के सभी घोटाले न्यायालय में विचारधीन है और सभी आरोपी जमानत पर रिहा है। हर घोटाले के पहेले कांग्रेस सरकार ने इसे विपक्ष का षड्यंत्र बताकर उससे पल्ला झाड़ने की कोशिस की पर हर बार उन्हें न्यायालय में मूकी खानी पड़ी। सभी आरोपी कांग्रेस सरकार के साथ किसी ना किसी प्रकार से जुड़े हुए है और कांग्रेस अपने आप को पाक साफ बताती है। घोटालो के इस दल-दल में फंसे कांग्रेस से अन्य राजनितिक दल भी अपनी-अपनी रोटिया सेकने में लगे है।

वाड्रा मामले में सामने आये तथ्यों ने गरीबी में आटा गिला कर दिया और अभी तक सरकार अपने घटक दलों और नेताओ के लिए सफाई पेश कर रही थी परन्तु अब वो नेताओ के रिश्तेदारो के लिए भी सफाई दे रही है। महंगाई भी अपनी चरम सीमा पर है और आम आदमी बनाना रिपब्लिक में परेशान हो रहा है। यदि कांग्रेस के लोग चमत्कार पर विश्वास करते है तो आम आदमी को महंगाई से और कांग्रेस को आगामी चुनावो में हारने से से सिर्फ चमत्कार ही बचा सकता है।

Monday, 17 February 2014

घोटाला - श्री हरी


घोटाला भारतवासियों के लिए कोई नई बात नहीं है ! घोटाला तो हमारी पौराणिक कथाओ मे भी दिखता है ! जब घोटाला बढ़ने लगता है तब भगवान श्री हरी विष्णु इस धरती पे अवतार लेते है ! और घोटाला करने वालो का विनाश करते है ! कभी - कभी भगवान ने स्वयं घोटाला करने के लिए धरती पे जन्म लिया ! घोटालो से हमारा नाता बहुत पुराना है क्योंकि भगवान श्री हरी विष्णु ने कई बार इस धरती पे घोटाले किये ! विष्णु के द्वारा किये घोटालो की सूचि इस प्रकार है 

वामन रूप मे श्री हरी विष्णु ने दो कदम में पुरे जगत का दान ले लिया !
मोहिनी का रूप धारण करके उन्होंने भस्मासुर का वध किया !
सागर मंथन के बाद जब राहू ने चुपके से देव रूप धरकर अमृत पान किया तो विष्णु ने उसके अंग को दो भाग मे विभाजीत कर दिया !
भगवान कृष्ण के अवतार मे तो श्री हरी विष्णु ने सभी घोटालो की मर्यादा तोड़ दी !

जब मै श्री हरी विष्णु के घोटालो की बात करता हू तब हमें इस बात पे विशेष ध्यान देना चाहिए की श्री हरी ने सभी घोटाले मानव जाती की भलाई के लिए किये ! श्री हरी ने हर घोटाले से असुरो का संहार किया, इस लिए मानव इन घोटालो को श्री हरी का चमत्कार मानते है परन्तु असुर इसे धोका मानते है ! एक बात गौर करने योग्य है की समय के साथ श्री हरी के घोटाले बदलते चले गए ! असुरो ने भी नए नए तरीके निजाद किये परन्तु श्री हरी के घोटालो के आगे असुर मानव जाती का कुछ नहीं बिगड़ पाए !

समय बदला और समय के साथ साथ असुर बदल गए उनके घोटाले करने के तरीके बदल गए ! अब असुर सिर्फ और सिर्फ धन के लिए घोटाला करते है ! असुरो के इस घोटालो को नए नए नाम से जाना जाता है उदहारण के लिए बोफोर्स घोटाला, चारा घोटाला, ताबूत घोटाला, २जी घोटाला, सी डब्लू जी घोटाला, अयस्क घोटाला, निर्माण घोटाला और कोयला घोटाला इत्यादी ! असुरो के घोटालो को जवाब देने के लिए श्री हरी विष्णु कलगी अवतार मे जन्म लेंगे और ऐसा घोटाला करेंगे जिससे मानव जाती का उद्धान हो !

कलगी अवतार मे अभी समय है क्योंकि असुरो के घोटालो ने अभी सीमा पर नहीं की है ! असुरो के घोटालो को रोकने के लिए श्री हरी के सेवक जन्म लेते रहते है पर उन्हें हर बार कुचल दिया जाता है ! कभी सेवक को जला दिया गया, कभी सेवक को गोली मर दी तो कभी उसे गाडी के नीच कुचल दिया ! कलयुग मे असुर निरंतर शक्तिमान होता जा रहा है इस लिए श्री हरी को जल्द से जल्द इस धरती पर जन्म लेना चाहिए तब तक  भारत के नियंत्रक-महालेखापरीक्षक सभी असुरो का बही खाता तैयार कर रहे है !

Monday, 10 February 2014

विकास या मूर्ति​या


भारत के राजनेता असली मुद्दों और समस्याओं को समझने में विफल क्यों है ? मैंने कुछ महीने पहले अपने एक लेख में इस बात का ज़िक्र किया था. मैं ​ने उस लेख में उन स्मारकों और स्मारक के विकास में ​नेताओ द्वारा ​अपना समय और ​जनता का ​पैसा खर्च करने का कारण ​भी ​लिखा है​. स्मारको और मूर्तियो का निर्माण मतदाताओ को भावनात्मक रूप से जोड़कर राजनीति​ में अपने वोट बैंक की रक्षा ​करना ​है​. बहन मायावती ने मूर्तियो के निर्माण तो एक कीर्तिमान ही बना डाला उन्होंने बाबा साहेब अम्बेडकर के साथ साथ खुद की प्रतिमा ​भी बनवा दी। ​

​अरब सागर में शिवाजी का एक स्मारक बनाने की भी बात चल रही थी​. ​मैंने सरकार के शिवाजी के स्मारक के नाम पर होने वाली राजनिति का पुरजोर विरोध किया। स्मारक में होने वालो पैसे का इस्तमाल हम ​अन्य सामाजिक विकास के मुद्दों के लिए कर सकते है। सरकार ​का ए मानना है कि ​इस स्मारक से पर्यटन ​बढ़ेगा और सरकारी ​राजस्व में वृद्धि होगी​, परन्तु सरकार ए भूल गयी कि स्मारक पर खर्च हुए पैसे को कमाने में कई वर्ष लग जाएंगे।

​​हम सभी जनाते है कि ​भारत ​का नाम उन देशो में शामिल है जहा आज भी ​कुपोषण ​है। भारत ​का स्वास्थ्य के क्षेत्र में ​विकास ​अभी तक उम्मीद से कम है और हम स्मारकों के विकास पर पैसा खर्च कर रहे हैं​. कई लोगो ​ने ​शिवाजी प्रतिमा के निर्माण के लिए महाराष्ट्र सरकार के फैसले की आलोचना की है, लेकिन अब ​उनमे से ही कई लोग सरदार पटेल की प्रतिमा के निर्माण के लिए मोदी के फैसले का समर्थन कर ​रहे हैं​. ​

मुझे ​लगा था ​नरेंद्र मोदी जैसे व्यक्ति मूर्ति ​से ​परे ​सोचेंगे, परन्तु नरेंद्र मोदी ने मुझे गलत साबित कर दिया।​नरेंद्र मोदी सरदार पटेल कि मूर्ति ​पर खर्च होनेवाले ​पैसे ​से एक अंतरराष्ट्रीय अस्पताल ​या एक अंतराष्ट्रीय विश्वविद्यालय ​बनाने का फैसला ​करते तो शायद देश के लिए अच्छा होता। 



सरदार की प्रतिमा पर आपकी क्या राय है ?​​ k9kamal@gmail.com पर अपने विचार लिख भेजें.

Thursday, 6 February 2014

Why Congress is supporting Modi?


In 2002 Riot took place in Gujarat. Gujarat accounted death of Hindus & Muslim. Narendra Modi was Chief Minister at that point of time, the killing of innocent people clearly proved that Modi administration failed to control the riots. In style of Congress,”We can say that Modi administration didn’t try to stop the riots.”

Congress & leaders of congress are trying their best to bring back the 2002 Gujarat riots in main stream to use it against Modi to fight his Development marketing & to stop Modi to reach 272+. My observations clearly pushed me to believe that Congress is helping Modi with every remark of Gujarat riots.

How Congress is supporting Modi?

Congress is making Modi a Super hero by portraying him as killer of people who killed Kar Sevak or put the train on fire at Godhara station. Many Hindus strongly believe that if there won’t be any reaction to what happened in Godhara then it will be difficult for Hindus to live in peace & get respect in their own country.

I observed that there are group of people who over whelmed Modi more when Congress started campaigning him as Killer of particular community. It’s not good sign for secular India but it is true sign of mentality of people in India. There are few intellectuals who won’t approve my theory but it’s true. Many hindus are worshipping Modi because he set the line for particular community.

The supporter of Modi increased due to his involvement of killing (Not proven) in Godhara. They are the people those who think that every terrorist activity in our country is directly linked with particular community. They don’t support killing of innocent people but they support action against a particular community. They want a leader to protect them from particular community and they see that leader into Modi. Congress is making Modi a super hero for them.

सपनो मे जा पंहुचा मैं मधुशाला



एक दिन छुटपन के सपनो मे जा पंहुचा मैं मधुशाला !!


ना मुझे शहद मिली, ना मिली कोई हाला !



रिझाती हाँथ पकड़कर मेरा वहा एक चंचल मधुबाला !


एक दिन छुटपन के सपनो मे जा पंहुचा मैं मधुशाला !!



पैमाने पैमानो से छलक रहे थे, मदहोश थी मधुशाला !


एक दिन छुटपन के सपनो मे जा पंहुचा मैं मधुशाला !!





कोई रोता कोई हस्ता बेबाक थी मधुशाला !


एक दिन छुटपन के सपनो मे जा पंहुचा मैं मधुशाला !!



दुःख की नदियाँ सुख के गोते खेल खिलाती मधुशाला !


एक दिन छुटपन के सपनो मे जा पंहुचा मैं मधुशाला !!


Sapano Me Ja Pahucha Mai Madhushala



Ek Din Ke Chhutpan Ke Sapano Me Ja Pahucha Mai Madhushala !


Na Mujhe Vaha Shahad Mili Na Mili Koi Hala !!





Rijhatee Hanth Pakad Mera Vaha Ek Chanchal Madhubala !


Ek Din Ke Chhutpan Ke Sapano Me Ja Pahucha Mai Madhushala !!





Paimane Paimano Se Chhalak Rahe The, Madhosh Thee Madhushala !


Ek Din Ke Chhutpan Ke Sapano Me Ja Pahucha Mai Madhushala !!





Koi Rota Koi Hasta, Bebak Thee Madhushala !


Ek Din Ke Chhutpan Ke Sapano Me Ja Pahucha Mai Madhushala !!





Dukh Ki Nadiyan Sukh Ke Gote Khel Khilati Madhushala !


Ek Din Ke Chhutpan Ke Sapano Me Ja Pahucha Mai Madhushala !!


Wednesday, 5 February 2014

वो सितारा - II



मुंबई की तंग गलियों में कही खो गया मै,


पर क्या वो सितारा अभ्भी चमकता है।





कई दिन बीते मिला नहीं मै,


पर क्या वो सितारा अभ्भी चमकता है।





अँधेरी और उजली रात का एहसास नहीं है,


पर क्या वो सितारा अभ्भी चमकता है।





जाने दिन बीते कितने मैंने ऊपर नहीं देखा है,


पर क्या वो सितारा अभ्भी चमकता है।





लाईट की चका चौंध में तारे गुम गए,


पर क्या वो सितारा अभ्भी चमकता है।





सुना टूट के एक तारा गिरा कही है,


पर क्या वो सितारा अभ्भी चमकता है।





Vo Sitara - II


Mumbai Ki Tang Galiyo Me Mai Kahi Kho Gaya,
Par Kya Vo Sitara Abhi Chamkta Hai!

Kai Din Bite Mila Nahi Hu,
Par Kya Vo Sitara Abhi Chamkta Hai!

Andheri Aur Ujali Raat Ka Ehsaash Nahi Hai!
Par Kya Vo Sitara Abhi Chamkta Hai!

Jaane Din Bite Kitane Maine Upar Nahi Dekha Hai,
Par Kya Vo Sitara Abhi Chamkta Hai!

Light Ki Chaka Chundh Me Tare Gum Gaye,
Par Kya Vo Sitara Abhi Chamkta Hai!

Suna Hai Tut Ke Ek Tara Gira Kahi Hai,
Par Kya Vo Sitara Abhi Chamkta Hai!

Tuesday, 4 February 2014

वो सितारा


गाँव की अँधेरी रातों में,


वो सितारा उजाला फैलता था। 





उजियाले चाँद की रोशनी में,


वो सितारा कही छुप जाता था।





मै जब रात को सो जाता था,


वो सितारा मेरा मन बहलाता था। 





दूर गगन में जुगनू सा टिमटिमाता,


वो सितारा कलाबजिया दिखता था। 





मै लेट लतीफ़ देर से आता,


वो सितारा मुझे समय का एहसास करता था। 


Vo Sitara


Gaon Ki Andheri Rato Me,
Vo Sitara Ujala Phailata Tha!

Ujiyale Chand Ki Roshani Me,
Vo Sitara Kahi Chhup Jata Tha!

Mai Jab Raat Ko Thak Jata,
Vo Sitara Mera Man Bahlata Tha!




Dur Gagan Me Jugnu Sa Timtimata,
Vo Sitara Kalabaziya Dikhata Tha!




Mai Late Latif Der Se Aata,
Vo Sitara Muje Samay Ka Ehsaas Karaat Tha!

Sunday, 2 February 2014

नए युग की मधुशाला


बैर करांते मंदिर मस्जिद ! मेल कराती मधुशाला !!
दिल तोड़ती प्रियम्वदा ! राह दिखाती बारबाला !!

आदम के बच्चो ने क्या हाल किया मधुशाला !!
हाथ मे चखना और हाथो मे मदिरा का प्याला !!





हम तो अभी यही कहेंगे दिल तोड़ती प्रियम्वदा ! राह दिखाती बारबाला !!
कन्याओ ने भी अब रख्खा कदम है मधुशाला !!

कलयूग रंग दिखायेगा तड़प उठेगी मधुशाला !!
बच्चो ने अब राह है पकड़ी मधुशाला !!

डिस्प्रिन से उतरेगा अब हंगोवर मधुशाला !!
हम तो अभी यही कहेंगे दिल तोड़ती प्रियम्वदा ! राह दिखाती बारबाला !!

साथी भी अब साथ चला है मधुशाला !!
गटर मे गिर के उतारेगी अब नशे की हाला !!

सरकार बढाती टैक्स, रुकी नहीं मधुशाला !!
बूंद बूंद पिते है पैमाने की और भीढ़ बढ़ी है मधुशाल !!

बैर करांते मंदिर मस्जिद ! मेल कराती मधुशाला !!
दिल तोड़ती प्रियम्वदा ! राह दिखाती बारबाला !!


Naye Yug Ki Madhushaala


Bair Karante Mandir Masjid ! Mail Karati Madhushala !!
Dil Todati Priymvada ! Rah Dikhati Barbaala !!

Aadam Ke Bachho Ne Kya Hal Kiya Madhushala !!
Hath Mai Chakhna aur Madira Ky Pyala !!

Ham To Abhi Yahi Kahenge Dil Todati Priymvada ! Rah Dikhati Barbaala !! 

Kanyao Ne Ab Rakhkha Kadam Hai Madhushala !!
Kalyug Rang Dikhayega Tadap Uthegi Madhushala !! 

Bachcho Ne Ab Rah Hai Pakdi Madhushala !!
Diprin Se Utarega Ab Hangover Madhushala !!

Ham To Abhi Yahi Kahenge Dil Todati Priymvada ! Rah Dikhati Barbaala !! 

Sathi Bhi Ab Saath Chala Hai Madhushala !!
Gatar Mai Gir Ke Utaregi Ab Nashe Ki Aala !!

Sarkar Badhati Tax Ruki Nahi Hai Madhushala !!
Bund Bund Pite Hai Paimane Ki Aur Bhid Badhi Hai Madhushala !!

Bair Karante Mandir Masjid ! Mail Karati Madhushala !!
Dil Todati Priymvada ! Rah Dikhati Barbaala !!

Kaam Vaasna



Farhin Aur Shiv Ka Pyaar, Sach Me Pyaar Tha Ya Sirf Kaam
Vaasna Eas Baat Ka Andaaz Lagana Mushkil Tha. Samaaj Me Hindu Aur Muslim Ke
Prem Ko Galat Nazaro Se Dekha Jata Tha. Shiv, Radheshyaam Pandit Ka Ladka Tha
Aur Farhin Kazi Sahab Ki Ladki Thee. Dono Ka Parivaar Unke Jaat Me Sabase Upar
Pe Sthaan Par Baitha Tha. Farhin Aur Shiv Ka Aapas Me Milan Mushkil Hee Nahi
Naminkin Tha.





Farhin Aur Shiv Jaise Hee Milate Vo Nadi Par Ke Khali Pade
Bhutiya Mahal Ki Taraf Chal Dete. Mahal Bhutiya Tha Eas Liye Vaha Koi Aata Jata
Nahi Tha. Farhin Aur Shiv Ko Jo Privacy Chahiye Thee, Ye Mahal Uas Mayane Me
Sabse Sahi Tha. Unake Alava Shayad Hee Koi Uas Bhutiya Mahal Ki Taraf Jata Tha.
Farhin Aur Shiv Ne Bhutiya Mahal Me Kaam Vaasna Puri Karane Ke Liye Har Cheez
Jama Kar Rakhi Thee.





Mere Andaaz Se Vaha Kam Se Kam 100 Condom Box The. Shiv Tha
to Panditaji Ka Ladka Parantu Usake Shuak Navabo Wale The. Farhin Bhi Shauk Ke
Mamale Me Usase Koi Pichhe Nahi Thee. Dono Bhutiya Mahal Pahuchate Hee, Sex Ke
Liye Taiyaar Ho Jaate The. Choli, Peticoat, Bra, Panty, Paint, Shirt, Brief Aur
Vest Sab Shiv & Farhin Ke Saath Sex Ka Maza Lete The. Jism Aur Kapado Me
Kisake Andar Kaam Vaasna Jyada Hai Eas Baat Ke Phaisala karna Mushkil Ho Jata
Tha.





Farhin Aur Shiv Ka Pyaar Hamesha Charcha Me Raheta Tha.
Parantu Farhin Aur Shiv Ke Man Me Sirf Kaam Vaasna Ka Vaas Tha. Dono Lagta Tha
Sidhe Kaam Devta Se Aashirvaad Lekar aaye The. Ghanto Dono Bhutiya Mahal Me Ek
Dusar Ke Aalingan Me Lage Madhosh Pade Rahate The. Kaam Ka Jor Aisa Tha Ki
Ghanto Dono Ke Tan Pe Kapade Ka Tukada Bhi Nahi Raheta Tha. Shayad Kaam Devta Bhi
Upar Farhin Aur Shiv Ko Dekh Kar Sharma Jaate The.







Note : This is not Sex Story. It’s story of Two people, whom
comes from different religion & fall in love but the write failed to
understand the chemistry between them until both get killed by…….





On Viewers response will write next part of this story.


Friday, 31 January 2014

Chhutpan Ke Sapano Me Khoya Hai Man



Chhutpan Ke Sapano Me Khoya Hai Man, Kabhi Jagate Kabhi Sote Roya Hai Man !!





Kabhi Vo Bachpan Ki Lukka Chhippi Me Muskrata Hai Man !





Mogali, Alif laila Ki Kahaniyo Ko Soch Khil Khilata hai Man !





Maa Ki Daant Aur Pathshala Ke Gharkaam Ko Soch Ghabraata Hai Man !





Kabhi Langadi Aur Kabhi Kabbaddi Me Kho Jata Hai Man !





Charane Ki Toffi Aur pachas Paise Ki Malai Kulfi Se Lalchata Hai Man !





Chhutpan Ke Sapano Me Khoya Hai Man ! Kabhi Jagate Kabhi Sote Roya Hai Man !!


गांधी एक ब्रैंड



आज़ादी कि लड़ाई के बाद गांधीजी चाहते थे कि कांग्रेस पार्टी को भंग कर दिया जाए।  परन्तु नेहरु तथा कांग्रेस पार्टी के कई सदस्य गांधीजी की इस बात से सहमत नहीं थे। कांग्रेस के सदस्यो और गांधीजी के बीच इस बारे में कुछ विचार विमर्श होता उससे पहेले गांधीजी ए दुनिया छोड़कर चले गए. आज़ादी के पहेले कांग्रेस ने आज़ादी कि लड़ाई में भागीदारी निभाई थी और आज़ादी के बाद वो देश पर एक राजनैतिक पार्टी के रूप में शासन करने लगे।





भारत का इतिहास गांधीजी और कांग्रेस को शीर्ष में रखकर लिखा गया है।  स्कूल कि इतिहास की किताबे पढने पर तो ऐसा लगता है भारत का इतिहास नहीं बल्कि हम गांधीजी और कांग्रेस कि आत्मकथा पढ़ रहे है। भारत कि आज़ादी कि लड़ाई में कई ऐसे स्व्तंत्रता सेनानी है जिन्हे कांग्रेस द्वारा लिखे इतिहास में कोई जगह नहीं मिली।  कुछ आज़ादी कि नेताओ को इतिहास कि किताबो एक दो अनुच्छेद मिल गए पर स्कूल में मास्टर साहब ने कह दिया था कि इन्हे याद करने कि जरूरत नहीं है क्योंकि छमाही परीक्षा के प्रश्नो में लोग महत्तवपूर्ण नहीं है। कांग्रेस ने गांधीजी को एक बड़ा ब्रैंड बना दिया और तब से आज तक उनके नाम को भुना रही है। 





इंदिरा नेहरु ने एक पारसी व्यक्ति से शादी कि थी।  परन्तु हिन्दू पारसी शादी में कुछ अड़चने आ गयी और इस अड़चन को दूर करने के लिए गांधीजी ने इंदिरा को अपना उपनाम गांधी दे दिया।  इंदिरा नेहरु अब इंदिरा गांधी बन चुकी थी।  गांधीजी एक ब्रैंड बन चुके थे।  पुरे भारत वर्ष में गांधीजी के करोडो प्रशशंक थे। गांधीजी का नाम चारो तरफ फ़ैल चूका था कि तभी एक दिन दहाड़े दोपहर में गांधीजी कि हत्या कर दी गई। जिस गांधीजी के खिलाफ कोई खड़ा नहीं हुआ उसे दिन दहाड़े गोलियो से छलनी कर दिया गया।  गांधीजी कि हत्या से लोगो में गांधीजी के प्रति सम्मान दिन दुगना रात चौगुना हो गया। गांधीजी कि हत्या के बाद उनकी और कांग्रेस कि ब्रैंड वैल्यू में काफी बढ़ोतरी हुई।  





क्या हत्या होने से लोग ब्रैंड बन जाते है ?





मेरे प्रश्न का जवाब कांग्रेस के जगह जगह टंगे पोस्टरो से मिल जाता है।  कांग्रेस के हर पोस्टर में आप गांधीजी, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी को देख सकते है।  जवाहरलाल नेहरु को तो जैसे कांग्रेस वाले भूल गए।  गांधीजी, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी में क्या समानता है और क्यों ए कांग्रेस के हर पोस्टर पर नज़र आते है।  आप ने सोचा कभी इस बारे में ! गांधीजी, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी इन सभी कि हत्या कि गई थी।  और इनकी हत्या के कारन इन्होने ने हमेशा लोगो के मन में अपनी एक नई तस्वीर बनाई।  कांग्रेस इस बात से भली भांति परिचित है और शायद इसलिए आपको गांधीजी उनके हर पोस्टर पर नज़र आते है।  





गांधीजी ने शायद भारत और कांग्रेस का राजनितिक भविष्य देखा था और शायद इसलिए वो चाहते थे कि भारत को स्व्तंत्रता मिलाने के बाद उन्होंने कांग्रेस को भंग करने कि मांग कि थी। हम सभी गांधी का सम्मान करते है पर इसका मतलब ए नहीं है कि कांग्रेस सिर्फ गांधीजी के नाम पर वोट मांगती फिरे।  यदि कांग्रेस कहती है कि वो गांधीजी के पथ पर चल रहे है तो १९८४ में हुए सिख्खो के कत्लेआम के बारे में कांग्रेस कि क्या राय है।  २ सीखो ने ऑपरेशन ब्लू स्टार के इंदिरा कि हत्या कर दी और उसके बाद सिख्खो का कत्लेआम हुआ।  उनके एक बड़े नेता ने कहा जब एक बड़ा पेड़ गिरता है तो उससे कई और पेड़ उखड जाते है।





गांधीजी अहिंसा के पूजारी थे।  कांग्रेस ने कई मौको पर गांधीजी के विपरीत पथ पर जाकर राजनीती कि है। चाहे १९८४ का सीखो का कत्लेआम हो या फिर इंदिरा गांधी द्वारा भारत पर थोपा गया आपातकाल। कांग्रेस ने गांधीजी को एक बड़ा ब्रैंड बनाया और अब उस ब्रांड को अपने राजनितिक फायदे के लिए इस्तेमाल करते चले आ रहे है।


Thursday, 30 January 2014

घोटालो को देखकर दिया आम आदमी रोए


घोटालो को देखकर दिया आम आदमी रोए ,

सोना चांदी लुट गया , कोयला भी अब चोरी होए !



घोटालो की जैसे बाढ़ है आयी,

किसी ने 10 तो किसी ने 100 लाख करोड़ की लुटिया डुबोई !



अंधेर नगरी अनबुझ राजा,

टके शेर भाजी टके शेर खाजा !



गरीब का तो हाल बेहाल है,

नेताजी को सिर्फ बच्चो और बैंक बैलेंस का खयाल है !



काम नहीं करने को तो चोरी करवाते है

देश का पैसा बंदरो की तरह आपस में बाँट कर खाते है !



घोटालो को देखकर दिया आम आदमी रोए ,

सोना चांदी लुट गया , कोयला भी अब चोरी होए !



Ghotalo Ko Dekhakar Diya Aam Aadmi Roye



Ghotalo Ko Dekhakar Diya Aam Aadmi Roye !


Sona Chandi Loot Gaya, Ab Koyala Bhi Chori Hoye !!





Ghotalo Ki Jaise Baadh Hai Aayee !


Kisi Ne 10 To Kisis Ne 100 Lakh Ki Lutiya Dubayee !!





Andher Nagari, Anbhuj Raja !


Take Sher Bhaji, Take Sher Khaja !!





Garib Ka To Haal Hee Behal Hai !


Netaji Ko Sirf Bachho Aur Bank Balance Ka Khayal hai !!





Kaam Nahi Hai Karanake Ko To Chori Karwate Hai !


Desh Ka Paisa Aapas Me Bandaro Ki Tarah Baatkar Khate Hai !!






Ghotalo ko Dekhakar Diya Aam Aadmi Roye !


Sona Chandi Loot Gaya, Ab Koyala Bhi Chori Hoye !!



Wednesday, 29 January 2014

कैसे बनेगा तीसरा मंच ?​


राजनीति मे हर नया दिन एक नए जोड़-तोड़ की शुरवात करता है. पिछले कुछ दिनों मे राजनितिक समीकरणों मे अमूलचुल परिवर्तन हुए है। आम आदमी पार्टी के राजनितिक प्रवेश से हुए दिल्ली के राजनीतिको गलियारो के परिवर्तन से सारा देश अचंम्भित रह गया। जंहा कांग्रेस के तीसरे सत्र कि परिकल्पना करना एक मूर्खता होगा, वही तीसरे मंच के विकल्प की बाते जोर पकड़ने लगी है। कुछ महीने पहेले बीजेपी और कांग्रेस के बाद बड़ी पार्टी बनकर उभरने वाली सपा अब खस्ताहाल है।

हाल ही मे हुए कई समाचार चैनलो के सर्वे के माध्यम से ये खबर सामने आई ​है की बीजेपी​ उत्तर भारत और मध्य भारत में चमत्कार दिखा सकती है और दूसरी तरफ बीजेडी, एआएडीऍमके, तृणमूल कांग्रेस, जनता दल यूनाइटेड जैसी ​प्रादेशिक पार्टिया ​भी उनके राज्य में मजबूत हो​ती दिख रही है ​

क्या तीसरा मंच एक विकल्प है?

श्री मनमोहन सिंह ने कुछ ही महीनो पहेले आपने साक्षत्कार मे कहा की गटबंधन की राजनीति मे फैसले लेने काफी कठिन है जिसके कारण आर्थिक बदलाव लाने मे दिक्कते आ रही है. हम भूतकाल मे देख चुके है की किस तरह वामदल ने परमाणु अनुशंधन के फैसले पर UPA -1 से अपना समर्थन वापस ले लिया, UPA -2 मे ममता दीदी ने एलपीजी, डीसेल और एफडीआई के मुद्दे पर अपना समर्थन वापस ले लिया. भाजपा भी NDA के शासनकाल मे गटबंधन की राजनीति के विरोध को देख चुकी है.

वर्तमान समय मे कांग्रेस के पास २०० से भी ज्यादा सांसद है परन्तु श्री मनमोहन सिंह के अनुसार गटबंधन के चलते कड़े फैसले लेने मे सरकार को कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है. तीसरे मंच के सबसे बड़ी पार्टी के पास ​३० से अधिक सांसद नहीं होंगे, तीसरे मंच का समीकरण कांग्रेस के वर्तमान सांसदों की गिनती का ठीक उल्टा है. तीसरे मंच मे कई छोटी मोटी प्रादेशिक पार्टिया होंगी २०० से भी ज्यादा सांसदों का गटबंधन होगा जिससे निर्णय लेना और कठिन हो जायेगा.

इस बात से भी इनकार नहीं कर सकते की ​तीसरे मंच​ कि ​​सभी पार्टिया बन्दर बाँट मे लग जाए​ और राष्ट्रिय मुद्दो को छोड़कर सिर्फ अपने राज्यो के बारे में सोचने लगे। ​

यदि आप ने कांग्रेस और भाजपा के समय मे भारत मे कोई प्रगति नहीं देखी तो आप तीसरे मंच से ज्यादा उम्मीद नहीं लगा सकते है।

Tuesday, 28 January 2014

दिग्विजय सिंह - राज्यसभा के रास्ते


श्री दिग्विजय सिंह ने मध्यप्रदेश से राज्यसभा के लिए नामांकन भरने कि घोषणा कि है। ए वही दिग्विजय सिंह है जीने लोग राहुल गांधी का गुरु बताते है। दिग्विजय सिंह ने हमेशा कांग्रेस कि रणनीती बनाने में एक अहम् रोल निभाया है। परन्तु उनके राज्यसभा भा नामांकन से ए बात तय हो गयी है कि स्वंय उन्हें अपने रणनीतीयो पर भरोशा नहीं रहा है। इसलिए उन्होंने संसद में जानेवाली सबसे आसान राह का सहारा  लिया है।



एक सेनापति जो अपने सैनिको से युद्ध में जान कि बाजी लगाने के लिए कहता है अगर वो स्वंय युद्ध के मैदान से चला जाए तो उस सेना का क्या हाल होगा। मधुसूदन मिस्त्री भी लोकशभा चुनावो के लिए कोंग्रेस के रणनीति बना रहे है परन्तु उन्होंने भी राज्यसभा नामांकन भर दिया है। एक सेना तभी जीत सकती है जब उनका सेनापति उनके साथ रणभूमि में खड़ा हो। कांग्रेस के रणनीतिकार एक एक करके मैदान से बहार जा रहे है।




राहुल गांधी का मानना है कि २०१४ का चुनाव कांग्रेस जीतेगी पर उनके रणनीतिकार जिस तरह राज्यसभा नामांकन भर रहे है। मुझे लगता है कि राहुल गांधी को सपने से जगाने कि जरुरत है।


Why Rahul Gandhi came on Times Now?



We all saw the Interview of the year between Rahuk Gandhi & Arnab Goswami. Rahul Gandhi did his best in interview and we all know that he has to learn a lot in politics. I salute Rahul Gahdi for taking the all the questions directly from Arnab. Rahul Gandhi should get award for appearing in interview against Arnab Goswami.






Why the Congress selected Times now than NDTV & CNN IBN?


I read in Hindustan Times that Congress men selected Times Now for interview as it’s most watched News Show. The News Hour has highest TRP in all prime time show. My theory B is not ready to accept what congress men are saying for Rahul Gandhi interview on Times Now. I am going here with all the speculations in my mind about Rahul Gandhi interview on Times Now.






Why Not NDTV?


We all know that NDTV has some soft corner for Congress. They must be having their own good amount of reason but we all know that they criticize the Congress very late than other news channel. For congress it’s channel of their friend which can be taken care of easily so they preferred Times Now than appearing on NDTV.






Why Not CNN-IBN?


We all know the real owner of CNN-IBN group. It’s sad part for democracy when a media house is owned by corporate business company, sadly CNN-IBN falls in this category. It’s been said many time in past that Congress & Reliance are very close to each other. It’s not difficult for congress to request Reliance that CNN-IBN should not carry negative story about congress. I want to make it clear that CNN-IBN has shown BJP as top party in pre-poll surveys. Congress can request them not to carry negative story.





Why Times Now?

We all know that it’s difficult for anyone control Arnab Goswami. We all know his interview with Omar Abdullaha. We all know how for weeks they carried story on Nitin gandkari. Congress knows they can’t manage the Times Now or to be precise Arnab Goswami. If Rahul would have come on NDTV & CNN-IBN then Arnab would have ripped Congress & Rahul Gandhi part by part so they preferred Times Now than NDTV & CNN-IBN.

Monday, 27 January 2014

Why Digvijay Singh took RS route?


Digvijay Singh filled his nomination for Rajyshabha from MP. Digvijay Singh is mentor of Rahul Gandhi & He is one of the core persons in Congress strategy decisions for Lokshabha Election & he took the possible easiest route to go to Lokshabha. Does it mean that He has fear of loss in coming Lokshabha elections?

On one hand Rahul Gandhi telling his party workers to be ready for 2014 election and on other hand Digvijay Singh & Madhusudan Mistry nominated for Rajyashabha. Doesn’t it point out Questions in your mind? Why to take easiest route of Parliament when you are expecting other to fight the battle & win.

Digvijay Singh’s tweets read,"Filing nomination for RS today. In this age of Youth all of us over 65 should move on to the House of Elders ! Thanks to all who wished me.







But I am not satisfied for answer he gave, to choose the route for Rajya Shabha. The party which follows the Gandhi with so much passion should also learn from Gandhi. Gandhi always told people to do things which he did himself. In my suggestion Digvijay Singh Should fight the election of Loakshabha and win than taking route of Rajyashabha.


Sunday, 26 January 2014

Frankly Speaking With Arnab Goswami




We all know Arnab Goswami very well. I am very much sure that people do watch the newshour with Arnab Goswami and his interview show Frankly Speaking With Arnab Goswami. Let's see the way Arnab conducts his interview.



Arnab asked :











Arnab asked :











Arnab asked :











Arnab asked :











Arnab asked :











Arnab asked :











Arnab asked :











Arnab asked :











Arnab asked :











Arnab asked :











You must be looking for answer of person who came for interview but as you know Arnab never allows others to speak.









Friday, 24 January 2014

मैं नहीं हम - कांग्रेस


राहुल गांधी का नया पोस्टर "मैं नहीं हम" काफी बढ़िया है।  कांग्रेस हमेशा से नारे देने में बहुत ही सफल रही है। ऐसा कहेना गलत नहीं होगा कि कांग्रेस एक नारा प्रधान दल है।





गरीबी हटाओ !!


कांग्रेस का हाथ आम आदमी के साथ !!


हो रहा भारत निर्माण !!


मैं नहीं हम !!

हर हाथ शक्ति , हर हाथ तरक्की !!







परंतु सोचने वाली बात है ने इन चुनावी नारो के बाद भी उस नारे से जुड़े लोगो कि ज़िन्दगी में कोई बदलाव नहीं आया। मैं ऐसा नहीं रहा कि  कांग्रेस आम आदमी के लिए कुछ नहीं किया परन्तु २००९ के बाद हुए एक के बाद एक घोटालो कांग्रेस के सभी अच्छे कर्मो पर पानी फेर दिया।  





मैं नहीं हम !! अगर ए नारा देने से ही कांग्रेस जीत जाती तो क्या बात थी , परन्तु जमीनी सच्चाई ये है कि कांग्रेस के नारो से आम जनता काफी बार धोखा खा चुकी है।  तो मुझे नहीं लगता कि कांग्रेस का नया नारा "मैं नहीं हम"  आगामी लोकशभा चुनाव में कांग्रेस को कोई नई सफलता दिलाने में सक्षम होगा। कांग्रेस के जमीनी कार्यकर्ताओ में कोई जोश नहीं दिख रहा है।  इस समय कांग्रेस को उनके कार्यकर्ताओ में जोश जगाने कि जरूरत है।  अगर कार्यकर्ताओ में जोश जाग गया तो शायद कांग्रेस फिर से मतदाताओ में अपने प्रति विश्वास जगा पाएगी।  





मैंने पिछले कई महीनो में कई बार कांग्रेस के नेताओ को जमीनी सच्चाई बताने वाला लेख लिख चूका हूँ। परन्तु मैंने अभी भी कांग्रेस के जमीनी कार्यकर्ताओ में कोई हरकत नहीं देखी है।  यदि कांग्रेस को लगता है की ५०० करोड़ रुपये खर्च करके ब्रैंडिंग की जा सकती है।  तो ए उनका भ्रम है।  ब्रैंडिंग कि सफलता का सबसे बड़ा रहस्य आम लोगो द्वारा की जाने मुँहजबानी चर्चा है।  कांग्रेस इस चरचा में मार खा रही है।मुँहजबानी चरचा में लोग उनके खिलाफ सिर्फ नकारात्मक बाते कर रहे है।  जिसे कोई ब्रैंडिंग एजेंसी ५०० करोड़ लेकर नहीं बदल सकती है।  





मैं नहीं हम - इस समय मैं नहीं हम का जजब्बा कांग्रेस के कार्यकर्ताओ में जगाने कि जरुरत है।  कांग्रेस के नेताओ को उनके कार्यकर्ताओ में ये मंत्र फूँकना पड़ेगा कि हम चुनाव जीत सकते है, जो इस वक़्त सिर्फ कांग्रेस के कुछ बड़े नेताओ कि सोच है।  


Mai Nahi, Ham - Congress



The New poster of Rahul Gandi “Mai Nahi, Ham” is very nice.
Congress party has given us many famous slogans in past.  It’s look like they are the party of slogans.





Garibi Hatao !!


Congress Ka Haath, Aam Aadmi Ke Saath !!


Ho Raha Bharat Nirman !!


Mai Nahi, Ham !!


Now the latest entry “Har Haath Shakti, Har Haath tarkki !!”










The basic problem with congress & it’s slogan that they
failed to do anything in real life of people for whom the slogans was meant. The
slogan was only part of Poll campaign and nothing changed on ground. I don’t
say congress didn’t do anything for people of India but series of scam post
2009 spoiled all that good work of congress.





Mai Nahi, Ham !! will congress win the election with slogan
without doing anything else? So answer is simple no or else all the Advertising
agencies were ruling India & the copyrighter would have been Prime Minister
of India. I don’t think the new slogan of Congress “Mai Nahi, Ham” will help
congress in coming election. I don’t see any spark in congress worker on
ground. It’s time for Congress to make fire in Congress Worker. If Congress
Workers will start working with enthusiasm then Congress fortune can change in
2014.





In past several months I have written lot’s of suggestion to
Congress leaders based on ground reality but I guess none of them are reading
it.  You can’t be a brand spending 500
crore on ad agency. We all know that best mode of branding is satisfied
customer. We can see people have lots of complaints against Congress so no Ad agency
can change their fortune.





Mai Nahi, Ham !! is need of Congress party at this moment.
Congress Top leadership has to make believe the congress workers that they can
win 2014 election.







Tuesday, 21 January 2014

आप आलोचक नहीं है



आलोचना करना और आलोचक बनना दुनिया का सबसे आसान कार्य है।  मैं ऐसे बहुत लोगो को जानता हू जिन्हे अपनी जिंदगी मैं कभी बल्ला पकड़ने का मौका नहीं मिला परन्तु वो हमेशा सचिन कि बल्लेबाजी में खामिया निकालते रहते है।   मैं ऐसे बहुत लोगो को जानता हू जिन्हे अपनी जिंदगी मैं कभी ढंग से कविता कि एक पंक्ति नहीं पढ़ी और वो हिमेश रेशमिया के गाने और गाने के तरीके कि आलोचना करते है।  कुच्छ ऐसे भी लोग है जो ढंग से बोल नहीं पाते और सलमान खान के अभिनय कि आलोचना करते है।  हम सभी बहुत ही बेहतरीन आलोचक है।  हम का मतलब महान भारत देश के सभी नागरिक। हम किसी और कि गलती होने पर सभी नियम कानून का पालन करते हुए आलोचना में लग जाते है।  और अगर हमारी गलती हो तो झट से सिक्के के दूसरे पहलू पर चले जाते है। 






आम आदमी पार्टी का जन्म श्री अण्णा हज़ारे के भ्रष्टाचार आंदोलन से हुआ।  अण्णा के आंदोलन को विश्व हिन्दू परिषद् ने भी समर्थन दिया था। आम आदमी पार्टी ने दिल्ली का चुनाव जीता और कांग्रेस कि मदत से दिल्ली में सरकार बना ली।  आम आदमी पार्टी अब संपूर्ण भारत में पसरने कि तैय्यारी कर रही है।  आम आदमी पार्टी के फलने फूलने से भारतीय जनता पार्टी के मताधिकार को काफी फर्क पड़ेगा।  आम आदमी पार्टी के सभी सदस्यो ने कांग्रेस और उसके भ्रष्ट नेताओ कि आलोचना करके दिल्ली में जीत हासिल कि है।  दिल्ली चुनाव के पहेले आम आदमी पार्टी ने सभी कि आलोचना कि परन्तु अब वो सरकार में है तो  उनके कार्य प्रणाली और निर्णय कि आलोचना करने का अधिकार सभी भारतीय नागरिक नागरिको को है।






अब आम आदमी पार्टी कि दिल्ली में सरकार बनाने के बाद वो आलोचक का पद खो चुकी है। आम आदमी पार्टी को अब आलोचना करने का कार्य हम भारतीयो पर छोड़ देना चाहिए, जैसा कि मै पहेले भी कहे चूका हु कि हमें आलोचना के कार्य में महारत हासिल है।  मेरे शोध और जानकारी के अनुसार आम आदमी पार्टी अभी राष्ट्रीय पार्टी बनाने के लिए तैयार नहीं है।  आम आदमी पार्टी के दिल्ली सरकार में लिए फैसले इस बात का संज्ञान कराते है कि वो भारत को १९९१ के पहेले के युग में ले जायेंगे।  क्या हम १९९१ के पहेले का भारत चाहते है ? जहाँ हमें एक फ़ोन कनेक्शन का आवेदन करने के बाद ८ साल फ़ोन आने का इंतज़ार करना पड़ेगा।  मै तो १९९१ के पहेले के भारत कि परिकल्पना से डर जाता हु।  हर तरफ सरकारी बाबू लोगो का राज़ है, बिना सरकारी बाबू कि चापलूसी किये बिना कोई काम नहीं होने वाला।  आम आदमी पार्टी का रवैय्या प्राइवेटाइजेशन के खिलाफ लगता है , परन्तु अर्थव्यवस्था पर नजर डाले तो प्राइवेटाइजेशन ने भारत कि प्रगति में एक बहुत बड़ा योगदान दिया है।  






आम आदमी पार्टी ने हाल ही में रीटेल एफडीई को पुनः वापस ले लिया है।  आम आदमी पार्टी का ये निर्णय मुझे भारत को १९९१ के पहेले के दशक में ले जाने वाला मार्ग दिख रहा है।  हम सभी जानते है कि भारत कि सरकारी आय उसके खर्च से बहुत कम है ऐसे समय में लोग को सब्सिडी देना कुच्छ महीनो के लिए निजाद दिल देगा परन्तु आने वाले समय में हम फिर १९९१ के पहेले के समय में पंहुचा देगा, जंहा हम विश्व बैंक के कर्ज का ब्याज भी नहीं चूका पाएंगे।  हमारे देश का आयत , हमारे निर्यात से हमेशा ज्यादा रहा है और एफडीई से आने वाले पैसे के द्वारा हम अपने विदेशी मुद्रा के भंडार बैलेंस करते है और आयत कि जाने वाली वस्तुवों का दाम चुकाते है ऐसे में एफडीई हमारे देश के लिए बहुत जरूरी है। 






आम आदमी पार्टी  और आम आदमी पार्टी  के सदस्यो ने आलोचक के रूप में बहुत बढ़िया काम किया है।  परन्तु में ए मैं पहेले भी कहा चूका हु कि हम सभी भारतीय आलोचना के काम में बहुत माहिर है। आम आदमी पार्टी को अब ड्राइविंग सीट पर बैठ कर कार्य प्रणाली बनानी है और उसका निर्वहन करना है।  यदि आम आदमी पार्टी इस कार्य में सफल नहीं हुई तो आलोचक उनके चिथड़े चिथड़े कर हवा में उड़ा देंगे।  हम भारत देश के निवासी आलोचना करके लोगो को निस्ते नाबूत करने में एक नंबर है , हाल में हमने ये कांग्रेस के साथ दिल्ली चुनाव में करके दिखाया है।  आम आदमी पार्टी को अब सचिन, हिमेश  और सलमान बन के दिखाना है और आलोचना का काम हम भारतीयो पर छोड़ देना है।  


झोल हैं



बोफोर्स राजीव का झोल हैं! 





चारा लालू का झोल हैं! 





ताबूत जॉर्ज का झोल हैं! 





2 जी राजा का झोल हैं! 





CWG कलमाड़ी का झोल हैं! 





आदर्श चव्हाण का झोल हैं! 





झोल हैं बस झोल हैं!





झोल में भी इक झोल हैं!


Monday, 20 January 2014

बारिश की फूहार



मदमस्त कर जाती है बारिश की फूहार ! 





नए सपने दिखती है बारिश की फूहार 





नयी उमंग भर जाती  है बारिश की फूहार 





हरियाली दिखलाती है बारिश की फूहार 





भीनी खुस्बू फैलाती है बारिश की फूहार 





मोर से नृत्य कराती है बारिश की फूहार 





सर्द सवेरा लाती है बारिश की फूहार 





मदमस्त कर जाती है बारिश की फूहार 


Sunday, 19 January 2014

महँगाई



रोज़ाना जिए, रोज़ाना मरे इस महँगाई में। 


एक दिन पंकाए, तीन दिन खाए,


चौथे दिन भूखे ही जाए इस महँगाई में। 


रोने से भी आँखों में पानी न आये इस महँगाई में। 


नौकरी कि तलाश में जिंदगी कि बैंड बज जाए इस महँगाई में। 


शराब, शबाब , कबाब एक भाव में आए इस महँगाई में। 


पानी भी सोने के मोल में आए इस महँगाई में। 


रोज़ाना जिए, रोज़ाना मरे इस महँगाई में। 


पैसा है अनमोल



ग़रीब हो तो, पैसा है अनमोल! 





अमिर हो तो, पैसा है अनमोल! 





नेता हो तो, पैसा है अनमोल! 





व्यपारी हो तो, पैसा है अनमोल! 





कपड़े हो तो, पैसा है अनमोल! 





खाना हो तो, पैसा है अनमोल! 





सोना हो तो, पैसा है अनमोल! 





जागना हो तो, पैसा है अनमोल!





हर किसी का है मोल , पैसा है अनमोल! 





रंग बदलती दुनिया में , पैसा है अनमोल!