Tuesday, 3 July 2012

बरस रे मेघा


गर्मी  की  है  मर  अब  तो  बरस  रे  मेघा 




खेतो  की  फरियाद  अब  तो  बरस  रे  मेघा



पंक्षी  की  चहकार  अब  तो  बरस  रे  मेघा



झरने  की  झंकार  अब  तो  बरस  रे  मेघा
 


नदियों  की  कलकार  अब  तो  बरस  रे  मेघा



मेढक  की  टर  टार  अब  तो  बरस  रे  मेघा






मांझी  की  पतवार  अब  तो  बरस  रे  मेघा



गर्मी  की  है  मर  अब  तो  बरस  रे  मेघा



- कमल  उपाध्याय 

No comments:

Post a Comment