Thursday, 21 June 2012

मेरी प्यास बड़ी है



गर्मी के दिन है, पंक्षी प्यासे है ,


भटक रहे है इस डाल से उस डाल  !



इंसान हु मै, मेरी प्यास बड़ी है ,

प्यास है मुझे सोहरत की ,



इंसान हु मै, मेरी प्यास बड़ी है ,

प्यास है मुझे नाम, मनमानी  की ,



इंसान हु मै, मेरी प्यास बड़ी है ,

प्यास है मुझे घर, गाड़ी, साकी की ,



प्यास नहीं बुझेगी मेरी पानी से ,

पंक्षी पानी से प्यास बुझाते है  !



इंसान हु मै, मेरी प्यास बड़ी है ,

सात समन्दर फिरने की प्यास  !



इंसान हु मै, मेरी प्यास बड़ी है ,

लोगो को नीचा दिखने की प्यास  !



इंसान हु मै, मेरी प्यास बड़ी है ,

दौड़ के भीड़ से आगे निकल जाने की प्यास  !







गर्मी के दिन है, पंक्षी प्यासे है ,


भटक रहे है इस डाल से उस डाल  !



- कमल  उपाध्याय 


No comments:

Post a Comment