Thursday, 28 June 2012

अहम्





अहम्  के  मिलते  भाव  नहीं  है  !







अहम्  समय  पे  आये  तो  अच्छा  है  !





अहम्  यदि  न  आये  तो  ज्यादा  अच्छा 
है  !





अहम्  के  मिलते  भाव  नहीं  है  !



अहम्  ने  बड़ो  - बड़ो  को  पानी  मे  मिला 
डाला  !






अहम्  ने  धुल  से  लोगो  को  चाँद पे 
बिठा  डाला  !





अहम्  के  मिलते  भाव  नहीं  है  !





अहम्  से  चूर  लोगो  ने  संसार  को 
बुझा  डाला  !





अहम्  से  तिनके  ने  प्यारा   जग  बना 
डाला  !





अहम्  के  मिलते  भाव  नहीं  है  !





अहम्  ने  चाँद  को  ग्रहण  लगा  डाला  !





अहम्  ने  नन्हे  हनुमान  को  सूरज  पे 
पंहुचा  डाला  !





अहम्  के  मिलते  भाव  नहीं  है  !


No comments:

Post a Comment