Friday, 6 April 2012

पथ


पथ पथ पर रुकता हु मै आगे चलने के लिए !


रुक कर चलने से कभी हार नहीं होती !!



पथ पर गिरता हु मै , उठता हु मै !


गिर के उठने से कभी हार नहीं होती !!



पथ पर हजारो अड़चने है , अडचनो से लड़ता हु मै !


अडचनो से लड़ने पर कभी हार नहीं होती !!



कभी अकेले तो कभी भीड़ में चलता हु मै !


अकेले या भीड़ में चलने से कभी हार नहीं होती !!



जीवन एक सरल प्रक्रिया है , इसमें हजारो उलझाने है !


उलझनों को सुलझाने से कभी हार नहीं होती !!



कर्म करता हु मै , मेहनत करता हु मै !


कर्म और मेहनत करने से कभी हार नहीं होती !!



पथ पथ पर रुकता हु मै आगे चलने के लिए !


रुक कर चलने से कभी हार नहीं होती !!


No comments:

Post a Comment