Friday, 30 March 2012

मै कौन हु ?


एक दिन मै नींद से जगा और मेरी यादास्त जा चुकी थी !



राह मै चलते चलते मुझे पता चला की मै ऑस्ट्रेलिया मै हु !



हा वही ऑस्ट्रेलिया जहा आज कल भारतीयों के ऊपर अत्याचार हो रहा है !



मुझे मेरा पासपोर्ट मिला जिससे पता चला मै भारतीय हु !









वहा से शुरू हुई मेरी यात्रा मैं कौन हु ?



इस संसार मे.मै मानव हु !



जब मै ऑस्ट्रेलिया मे था …..मै भारतीय हु !



जब मै भारत आया मै उत्तर भारतीय हु !



मै उत्तर भारत गया वहा मै up का हु !



मै UP गया वहा मै ब्रह्मण हु !



मै ब्र्हमानो के पास गया तो मुझे पता चला की मै दिव्तीय कोटि का ब्रह्मण हु !



आज मै कमल जो आपने बारे मे इतना कुछ जानता हु ! पर आज भी मै नहीं जानता की मे कौन हु !



भगवान ने हमें जीवन का आनंद लेने के लिए जन्म दिया परन्तु हमने आपने आप को
कई हिस्सों मे विभाजीत कर दिया ! भगवान स्वयं सोच रहे कई मानवता का निर्माण
उनकी सफलता है या विफलता !



मै कौन हु ?

कमल उपाध्याय 

No comments:

Post a Comment