Monday, 27 February 2012

नई पैंट

रिंकू दौड़ते हुए आया और आते हे अपने पापा से लिपट गया . पापा ने पूछा क्या
बात है रिंकू तू आज खेलने नहीं गया, रिंकू ने कहा बस पापा आज मेरा दिल बहार
जाने का नहीं हुआ. मैंने अपना घरकाम भी कर लिया है. पापा ने कहा बहुत
अच्छी बात है रिंकू आज मैंने तेरे लिए २ चोकलेट लायी है. रिंकू चोकलेट
लेकर घर से बहार बरमादे में चला गया. आज रिंकू के चेहरे की हंसी कही गायब
थी.



रिंकू कुछ समय के बाद घर मे वापस आया और आके चुपचाप टीवी के सामने दूरदर्शन
पर नुक्कड़ देखने बैठ गया. पापा ने रिंकू से पूछा क्या बात है रिंकू आज तू
बहुत चुप चाप है. रिंकू ने कहा पापा मेरी स्कूल की पैंट पुरानी हो गयी है
तो मुझे अब नहीं पैंट ला दो. रिंकू के पापा ने कहा पर तेरी पैंट तो हमने
अभी लायी है थोड़े दिन पहेले, उसपर रिंकू ने  कहा पैंट नयी है पर उसकी स्टाइल
पुरानी है मुझे नए स्टाइल की बिना रब्बर एलास्टिक की पैंट चाहिए. रिंकू ने
फिर से पूछा " पापा बताओ ना की नयी पैंट कब लाओगे?"



रिंकू के पापा ने कहा " जब ये वाली पैंट फट जाएगी तब हम नयी पैंट ला देंगे."



रिंकू ये बात जानता था की ये पैंट इतने जल्दी फटने वाली नई है तो अब नयी
पैंट लेने के बारे सोचन भी दूर देश की बात है. अचानक रिंकू का शैतानी दिमाग
जागा और उसने सोचा की पैंट अपने आप नहीं फटेगी तो मे उसे खुद फाड़ देता
हु, ऐसा सोचकर वो बरामदे में गया और कैंची लेकर उसने अपनी पैंट फाड़ दी और
दुसरे दिन स्कूल से आने के बाद पापा से कहा की आज स्कूल मे बेंच के किल मे
आकर पैंट फट गयी तो मुझे अब नयी पैंट ला दो.



अगले दिन पापा ने रिंकू के लिए नयी पैंट ला दी !



Doing Kamaal,



No comments:

Post a Comment